Sunday, March 3, 2019

जगह जगह फूंके गए पीएम मोदी के पुतले,जानिए क्यों

इंफाल।

मणिपुर में 24 घंटे की राज्यव्यापी हड़ताल के दौरान अलग अलग इलाकों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पुतले फूंके गए। थोबुल जिले में प्रधानमंत्री के पुतले को फांसी पर लटकाने की कोशिश को पुलिस ने विफल कर दिया। आपको बता दें कि नागरिकता(संशोधन)बिल 2019 के विरोध में 66 सिविल सोसायटीज की कमेटी ने पूरे राज्य में बंद बुलाया था।


पश्चिम इंफाल के उरिपोक और थांगमेईबैंड में मोदी के पुतले जलाए गए। थांगमईबैंड में मुख्यमंत्री एन.बीरेन सिंह के साथ मोदी का पुतला जलाया गया। इंफाल वेस्ट के खुरई में मुख्यमंत्री का पुतला फूंका गया। यहां पर व राज्य के अन्य इलाकों में विभिन्न समूहों ने सड़कों को जाम कर दिया। राज्य के विभिन्न इलाकों में धरना प्रदर्शन किया गया।


हड़ताल के कारण व्यापारिक प्रतिष्ठान, बैंक, शैक्षणिक संस्थान और रोड ट्रांसपोर्ट बुरी तरह प्रभावित हुआ। प्रदर्शनकारियों ने उप मुख्यमंत्री वाई.जॉयकुमार के घर धावा बोला। हालांकि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को जॉयकुमार के घर के गेट पर ही रोक दिया।


बाद में उन्होंने प्रदर्शनकारियों से मुलाकात की। नेशनल पीपुल्स पार्टी के उपाध्यक्ष जॉयकुमार ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि उनकी पार्टी व अन्य क्षेत्रीय दल बिल के खिलाफ हैं। अगर विपक्षी दल राज्यसभा में बिल का विरोध करते हैं तो बिल पारित नहीं हो सकता क्योंकि उनके पास ऊपरी सदन में बहुमत नहीं है। जॉयकुमार ने कहा कि बिल के मुद्दे पर मंगलवार को एनपीपी ने पूर्वोत्तर के अन्य क्षेत्रीय दलों के साथ कन्वेंशन बुलाया था। हमने राज्यसभा में बिल पेश करने से पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात का वक्ता मांगा है। बुधवार शाम बिल के खिलाफ राज्य के विभिन्न इलाकों में लोगों ने मशाल जुलूस निकाला।
Disqus Comments